‘अलीगढ़’ की अनदेखी से काफी निराश हैं डायरेक्‍टर हंसल मेहता

0
28
http://reportbreaks.com/wp-content/uploads/2016/08/Greenland.jpg

नई दिल्‍ली: 64वें नेशनल फिल्‍म अवॉर्ड्स में पिछले साल काफी तारीफें बटोरने वाली फिल्‍म ‘अलीगढ़’ को कोई पुरस्‍कार न मिलने पर फिल्‍म के डायरेक्‍टर हंसल मेहता काफी निराश हैं. हालांकि हंसल ने अपनी निराशा में इसके लिए किसी को जिम्‍मेदार नहीं ठहराया है. हंसल मेहता ने अपनी निराशा ट्विटर पर जाहिर की है. ‘अलीगढ़’ एक प्रोफेसर की कहानी है जिसे समलैंगिकता के कारण नौकरी से निकाल दिया जाता है. इस किरदार को अभिनेता मनोज वाजपेयी ने निभाया था. मनोज वाजपेयी द्वारा इस फिल्‍म में किए गए अभिनय को काफी सराहना मिली थी. ऐसे में अपनी इस फिल्म की राष्‍ट्रीय पुरस्‍कारों में हुई अनदेखी पर हंसल मेहता का कहना है कि उनकी फिल्म को 64वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में नजरअंदाज किया जाना निराशाजनक है. लेकिन, उन्होंने आशा जताई कि समलैंगिकों के अधिकारों पर बहस को नजरअंदाज नहीं किया जाएगा. शुक्रवार को नई दिल्ली में 64वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा के बाद मेहता ने टिव्टर पर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं. उन्होंने लिखा, “मुझसे फोन पर पूछा जा रहा है कि क्या ‘अलीगढ़’ राष्ट्रीय पुरस्कारों में शामिल हुई थी और क्या मैं निर्णयों से निराश हूं? हां, ‘अलीगढ़’ शामिल हुई थी और हम अन्य सहयोगियों की तरह निराश हुए हैं, लेकिन मैं सभी विजेताओं को बधाई देना चाहता हूं.”

कोई जवाब दें